Laut Jata Hoon Kyon Gunah Ki Rah Par | Justin Masih

Laut jata hoon kyon, gunah ki rah par
Yishu kahata mujhase, tu aisa na kar (2)
Asim pyar ka mere, ye badala na de
Sang hoon tere, tu kabhi bhi na dar (2)

Insan purana, uthata hai sar
Kahata hai mujhase, a mere sang chal
Bhool kar bat yishu ki, main chal diya
Paap ke gande daladal mein, ja main gira (2)
Vahan se uthae, vo munji mera
Bachane mujhe, jan apani diya (2)
Kahata hai mujhase, tu vishvas kar
Sang hoon tere, tu kabhi bhi na dar
Laut jata hoon kyon, gunah ki rah par

Laut aya hoon, prabhu teri rah par
Mana paap apane, mujhe maf kar
Banda tera hoon, teri khidamat karoon
Jivan se apane tujhako, mahima main doon (2)
Insan naya bana tha, tera phazal
Hua sab naya, gaya jivan badal (2)
Fal atma ke mujhamen, dikhane lage
Yishu prabhu vas mujhamen kare (3)

लौट जाता हूँ क्यों, गुनाह की राह पर
यीशु कहता मुझसे, तू ऐसा न कर (2)
असीम प्यार का मेरे, ये बदला न दे
संग हूँ तेरे, तू कभी भी न डर (2)

इन्सान पुराना, उठाता है सर
कहता है मुझसे, आ मेरे संग चल
भूल कर बात यीशु की, मैं चल दिया
पाप के गंदे दलदल में, जा मैं गिरा (2)
वहां से उठाए, वो मुंजी मेरा
बचाने मुझे, जान अपनी दिया (2)
कहता है मुझसे, तू विश्वास कर
संग हूँ तेरे, तू कभी भी न डर
लौट जाता हूँ क्यों, गुनाह की राह पर

लौट आया हूँ, प्रभु तेरी राह पर
माना पाप अपने, मुझे माफ़ कर
बंदा तेरा हूँ, तेरी खिदमत करूँ
जीवन से अपने तुझको, महिमा मैं दूँ (2)
इन्सान नया बना था, तेरा फज़ल
हुआ सब नया, गया जीवन बदल (2)
फल आत्मा के मुझमें, दिखने लगे
यीशु प्रभु वास मुझमें करे (3)

See also  Mera Bharosa Hai Keval Prabhu Vo Hi Mera Bal Meri Dhal | Justin Masih

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *