tujhse mili hai zindagi kaise mera kahoon तुझसे मिली है जिन्दगी कैसे मेरा कहूं

तुझसे मिली है जिन्दगी, कैसे मेरा कहूं ।
प्रभु से जुडी है जिन्दगी, कैसे तोड़ दूं।

जब – जब मैंने तुझको पुकारा, तुने मेरी सुन ली है।
हाथ पकड कर संग चल कर, प्रभु ने राह दिखायी है।

तुझसे मिली है जिन्दगी, कैसे मेरा कहूं ।
प्रभु से जुडी है जिन्दगी, कैसे तोड़ दूं।

तेरा बुलावा सुन कर मैंने, प्रभु को स्विकार किया।
चरनो में आकर मुझको मिली है, खुशियां प्रेम आपार।

तुझसे मिली है जिन्दगी, कैसे मेरा कहूं ।
प्रभु से जुडी है जिन्दगी, कैसे तोड़ दूं।

दुनिया की राहो में खो चली थी, प्रभु ने बचा लिया
पास आकर गले लगाकर, मुझे जीवन दिया

तुझसे मिली है जिन्दगी, कैसे मेरा कहूं ।
प्रभु से जुडी है जिन्दगी, कैसे तोड़ दूं।

tujhse mili hai jindagi, kaise mera kahu
prabhu se judi hai jindagi, kaise tod du

jab – jab meine tujhko pukara, tune sunli hai
hath pakadkar sang chal kar, prabhu ne raah dikhayi hai

tujhse mili hai jindagi, kaise mera kahu
prabhu se judi hai jindagi, kaise tod du

tera bulava sunkar meine, prabhu ko svikar kiya
charano me aakar mujhko mili hai, khushiya prem apar

tujhse mili hai jindagi, kaise mera kahu
prabhu se judi hai jindagi, kaise tod du

duniya ki raaho mein kho chali thi, prabhu ne bacha liya
paas aakar gale lagakar, mujhe jeevan diya

tujhse mili hai jindagi, kaise mera kahu
prabhu se judi hai jindagi, kaise tod du

tujhse mili hai zindagi kaise mera kahoon तुझसे मिली है जिन्दगी कैसे मेरा कहूं
tujhse mili hai zindagi kaise mera kahoon तुझसे मिली है जिन्दगी कैसे मेरा कहूं

See also  Sari shristi ke malik

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *